હાસ્ય દરબાર

ગુજરાતી બ્લોગ જગતમાં રોજ નવી જોક અને હાસ્યનું હુલ્લડ

हे मां

आज हमारे स्थानिक डी.एफ.डबल्यु. मेट्रोप्लेक्सके सिनियरोंका स्नेह मिलन है।

ईस अनाडीको  कहा गया कि, ‘मधर्स डे’ होने के जरिये कुछ लिख कर आना ।

अब हमारी उम्र वालोंको हमारी उमरका गाना ही सूझे न भला?!

तो ये रचना पेश है – सब ६० + मांओंके कदमोंमें …

[ ‘हे मां ! तेरी सूरतसे अधिक भगवानकी सूरत क्या होगी?’  – की पैरडी ] 

हे मां! तेरी सूरतके लिये पफ पावडर तू क्युं लगाती है?
पफ पाबडरसे भी अधिक है, यह मेरा प्यार बडा खुबसूरत हां!

 तेरे चहरे पर दिखती है जो, वो लकिर हमारी शोहरत है
वो लकिरको ‘स्नो’में डुबो देगी, तो हम भी यहीं डूब जायेंगे । 

तेरे बालमें दिखती है जो धवल लट, गंभीरताकी मूरत है
उन धवल सुहावन बालोंमें, सब श्यामलता भी घायल है । 

तेरी आंखोंमें चिपका रहता वो चश्मा तूझे क्यूं भाता नहीं?
ईन चश्मोंमें भरपूर भरा, तेरी उम्र पूरीका ज्ञान सही । 

ये लडके अनाडी घूमते हैं, जिन तितलियोंके अगल बगल
वो तितलियां न पकायेगी, तेरे जैसा खाना मनभावन । 

हे मां! अगर सुनकर तुझको, मेरा गाना है न पसंद जरा
तो ले! मैंने ईस गीतको मेरी जेबमें वापिस रख ही दिया!

5 responses to “हे मां

  1. nabhakashdeep મે 12, 2013 at 8:03 pm

    આવો પ્યાર છલકતો રહે…હસતો રહે…ગાતો રહે. જય જય માવડી.

    રમેશ પટેલ(આકાશદીપ)

  2. chaman મે 12, 2013 at 6:27 pm

    सुरेशजी,
    आपने भाषा बदली तो मधर’स डे पर क्युं बदली?
    मेरे समझ्में नहि आया इसलीये लीखना पडता है!

    संस्क्रुतमेंभी कभी लीखना यार.

    हमारा फोटो इस साइट पर कैसे ला पाये? जरा बतादेना यह बूढेको!
    धन्यवाद.

    “चमन”
    ,

  3. Vinod R. Patel મે 12, 2013 at 10:15 am

    राष्ट्र भाषा हिन्दीमें सुरेशजी की रचना बड़ी लचीली है

    उसका आस्वाद ले के तृप्त हो गये

    सब माताओको मधर्स डे मुबारक

  4. Anila Patel મે 12, 2013 at 9:53 am

    બહુજ સરસ રચના– માતૃદિન મુબારક.

  5. pragnaju મે 12, 2013 at 7:28 am

    Happy mother’s day

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: